सीएम योगी ने किया ‘हर घर नल का जल’ योजना का शुभारंभ

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 30-06-2020 / 7:36 PM
  • Update Date: 30-06-2020 / 7:36 PM

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ‘हर घर नल का जल’ योजना का आगाज करने झांसी पहुंचे, सूखे बुंदेलखंड की प्यास बुझाने के इस बड़े मिशन के शुभारंभ समारोह में केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत भी शामिल हुए। सरकारी प्रवक्ता के अनुसार जल जीवन मिशन परियोजना के पहले चरण में बुंदेलखंड के सात जिले झांसी, महोबा, ललितपुर, जालौन, हमीरपुर, बांदा और चित्रकूट में पेयजल पाइप लाइन बिछाई जानी है। इसका लाभ सातों जिलों की 67 लाख आबादी को मिलेगा।

योजना का शुभारंभ करने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि वीर भूमि बुंदेलखंड में आज ‘विकास का सूर्योदय’ हो रहा है। उन्होंने कहा कि आज बुंदेलखंड में 2185 रुपये करोड़ की 12 पेयजल परियोजनाओं के निर्माण कार्य का शुभारंभ हुआ। मैं इस लोक मंगल कार्य हेतु मा. प्रधानमंत्री जी को कोटिश: आभार देता हूं। योगी कहते हैं कि ‘जल-जीवन मिशन’ बुंदेलखंड की उन्नति को यूपी सरकार की ओर से अर्घ्य स्वरूप है।

बुंदेलखंड में मिशन की शुरुआत झांसी, महोबा और ललितपुर से की जा रही है। मंगलवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने झांसी से मिशन का शुभारंभ किया। इस दौरान प्रदेश के जल शक्ति मंत्री महेंद्र सिंह और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह भी मौजूद रहे। बुंदेलखंड क्षेत्र के अंतर्गत झांसी महोबा ललितपुर जालौन हमीरपुर बांदा और चित्रकूट के कुल 4513 राजस्व ग्राम हैं, जिनमें से 891 राजस्व ग्राम पहले से ही पेयजल योजनाओं से आच्छादित हैं। शेष 3622 राजस्व गांवों की लगभग 67 लाख आबादी को 479 योजनाओं द्वारा पाइप पेयजल की व्यवस्था की जा रही है।

झांसी में 1627.94 करोड़ की लागत वाली 10 योजनाएं सतही स्रोत (सरफेस वॉटर) पर आधारित होंगी जिनका लाभ 644 राजस्व गांवों की 11,42,249 लोगों मिलेगा। ललितपुर जनपद में 1623.47 करोड़ की लागत वाली 16 सरफेस वॉटर रिसोर्स और 12 भूजल (ग्राउंड वॉटर) आधारित ग्रामीण पाइप पेयजल योजनाओं का निर्माण किया जा रहा है। जिनका लाभ 559 राजस्व ग्रामों की 9,87,689 आबादी को मिलेगा।

महोबा जनपद में 1219.74 करोड़ की लागत से 364 राजस्व ग्रामों के 6,68,660 लोग लाभान्वित होंगे। महोबा 1219.74 करोड़ की लागत से 364 राजस्व गांवों तक पहुंचाया जाएगा पानी। पहला चरण बुंदेलखंड, दूसरा चरण विंध्याचल, तीसरा चरण इंसेफेलाइटिस व जापानी बुखार से पीड़ित क्षेत्र, चौथा चरण लोराइड और आर्सेनिक ग्रसित गंगा तटीय क्षेत्र कवर किया जाएगा।

Share This Article On :
Loading...

BIG NEWS IN BRIEF