जलियांवाला बाग मेमोरियल पहुंचे ब्रिटिश बिशप, दंडवत होकर मांगी माफी

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 11-09-2019 / 1:31 PM
  • Update Date: 11-09-2019 / 1:31 PM

अमृतसर। अमृतसर जलियांवाला बाग नरसंहार के 100 साल के बाद एक ब्रिटिश बिशप जलियांवाला बाग मेमोरियल पहुंचे और ब्रिटिश सेना के इस घृणित काम के लिए माफी मांगी। अमृतसर पहुंचे कैंटरबरी के ऑर्कबिशप जस्टिन वेल्बे ने कहा कि मै 1919 में हुए इस अपराध के लिए माफी चाहता हु और इस घटना के लिए बेहद शर्मिंदा हु। जलियांवाला बाग मेमोरियल में जस्टिन वेल्बे शहीदस्थल पर दंडवत होने से पहले प्रार्थना की और क्षमाचायना की।

शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए वेल्बे ने कहा, मैं ब्रिटिश सरकार के लिए कुछ नहीं कह सकता हूं, मैं सरकारी अधिकारी नहीं हूं, लेकिन मैं जीजस क्राइस्ट के नाम पर बोल सकता हूं, ये पाप और उद्धार की जगह है, आप जानते हैं उन्होंने क्या किया है और ये यादें हमेशा रहेंगी। उन्होने कहा की जो अपराध इस जगह पर हुआ है उसके लिए वे दुखी है और माफी मांगते हैं उन्होंने कहा कि एक धार्मिक नेता होने के नाते में उस घटना पर दुख जताता हूं।

बता दें कि जलियांवाला बाग में 13 अप्रैल 1919 को ब्रिटिश अधिकारी “जनरल डायर” ने निहत्थे भारतीयों पर गोलियां चलाई थी। इस नरसंहार में लगभग 1500 लोग मारे गए थे। ये लोग स्वतंत्रता सेनानी सत्य पाल और सैफुद्दीन किचलू की गिरफ्तारी का विरोध करने इकट्ठा हुए थे।

Share This Article On :
Loading...

BIG NEWS IN BRIEF