भोपाल में ब्लू व्हेल गेम ने ली 10वीं के छात्र की जान

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 07-09-2017 / 12:18 PM
  • Update Date: 07-09-2017 / 12:18 PM

भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में बुधवार को 10वीं के एक छात्र ने अपने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। 15 वर्षीय इस किशोर के इस आत्मघाती कदम के पीछे ब्लू व्हेल गेम कारण बताया जा रहा है, हालांकि पुलिस इस आशंका से इंकार कर दिया है। बता दें कि रूस में बना ये गेम भारत समेत चीन, अमेरिका और कई देशों में गेम 130 से ज्यादा लोगों की जान ले चुका है।

पुलिस को ब्लू व्हेल पर शक
भोपाल दक्षिण पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ बहुगुणा ने से कहा- भोपाल के जहांगीराबाद में रहने वाले 15 साल के एक किशोर ने मंगलवार शाम अपने घर में फांसी लगा कर आत्महत्या कर ली। पुलिस को इस मामले में ब्लू व्हेल गेम के झांसे में आकर ऐसा कदम उठाने के बारे में कोई प्रमाण नहीं मिले हैं। उन्होंने कहा कि उसने किसी और कारण से ये कदम उठाया है और पुलिस अभी इस बारे में और जांच कर रही है।

कुछ देर के लिए जब्त किया था मोबाइल
पुलिस सूत्रों ने किशोर का मोबाइल जब्त किए जाने से भी इंकार करते हुए कहा कि जांच के मद्देनजर कुछ देर के लिए मोबाइल लिया गया था, लेकिन बाद में परिजन को लौटा दिया गया।

दमोह में ब्लू व्हेल ने छात्र को निगला
इसके पहले प्रदेश के दमोह में तीन दिन पहले 11वीं कक्षा के एक छात्र सात्विक पांडे ने ब्लू व्हेल गेम के झांसे में आकर रेल की पटरियों पर बैठ कर आत्महत्या कर ली थी।

इंदौर में भी हो चुका है हादसा
इंदौर में भी कुछ दिन पहले एक छात्र ने अपने स्कूल की बिल्डिंग से कूद कर आत्महत्या करने की तैयारी कर ली थी। समय रहते शिक्षकों और अन्य छात्रों के उसके देख लेने के चलते उसकी जान बचा ली गई थी।

रोक के प्रयास में जूटी राज्य सरकार
प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि राज्य सरकार आॅनलाइन खेले जाने वाले ब्लू व्हेल गेम को प्रतिबंधित करवाने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि हाल के दिनों में बच्चों में कुंठा के साथ-साथ पश्चिमी देशों की संस्कृति का प्रभाव पड़ने से इस तरह की घटनाएं हो रही हैं। चौहान ने कहा, बच्चों को कैसा जीवन दिया जाए, इस पर विचार होना चाहिए। बच्चों को मशीन नहीं बनायें। उनका स्वस्थ नैसर्गिक विकास होने दें।

Share This Article On :
loading...

BIG NEWS IN BRIEF