हिमा दास के साथ रेस में हुई थी ‘चीटिंग’!, बहरीन की एथलीट ने जानबूझकर रोका था रास्ता?

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 29-08-2018 / 11:07 PM
  • Update Date: 29-08-2018 / 11:07 PM

जर्काता। भारतीय एथलेटिक्स महासंघ (एएफआई) ने एशियन गेम्स में चार गुणा 400 मीटर दौड़ के दौरान हिमा दास को बाधा पहुंचाने के लिए बहरीन के खिलाफ विरोध दर्ज कराया। भारत इस स्पर्धा में दूसरे स्थान पर रहा, क्योंकि एमआर पूवम्मा 30 मीटर की बढ़त का फायदा उठाने में नाकाम रहीं।

इस विरोध को ज्यूरी ने स्वीकार भी कर लिया है और बुधवार को फैसला सुनाने की बात कही है। खबरों की मानें तो भारतीय टीम इस स्पर्धा में गोल्ड मेडल अपने नाम कर लेती, पर बहरीन के खिलाड़ियों ने रेस के दौरान भारतीय धावक हिमा दास के रास्ते में बाधा पैदा की जिस कारण भारत को रजत पदक से संतुष्ट होना पड़ा।

बता दें कि मोहम्मद अनस, एमआर पूवम्मा, हिमा दास और आरोकिया राजीव की टीम ने 3 मिनट 15.71 सेकेंड के समय के साथ देश के लिए रजत पदक हासिल किया। वहीं बहरीन ने 3 मिनट 11.89 सेकेंड के साथ स्वर्ण और कजाकिस्तान ने 3 मिनट 19.52 सेकेंड के साथ कांस्य पदक जीता।

बहरीन ने तीन मिनट 11.89 सेकेंड के साथ स्वर्ण, जबकि कजाखस्तान ने तीन मिनट 19.52 सेकेंड के साथ कांस्य पदक जीता।  एएफआई अध्यक्ष आदिल सुमरिवाला ने से कहा – यह स्पष्ट बाधा थी और हमने विरोध दर्ज करा दिया है। इससे हिमा को हल्की चोट भी आई है। इससे हमारा कुछ समय बर्बाद हुआ। ज्यूरी देखेगी की वहां क्या हुआ था।

हिमा को बैटन हासिल करने के बाद अपनी लेन बदलनी थी, लेकिन बहरीन की ओलुवाकेमी आदेकोया अपनी साथी सलवा नासिर को बैटन सौंपने के बाद भारतीय एथलीट के आगे गिर गई, जिससे उन्हें बाधा पहुंची। हिमा ने कहा – मुझे उसे पार करने के लिए उसके ऊपर से कूद लगानी पड़ी और मुझे लगा कि दूसरी लेन में जाकर मैंने फाउल कर दिया है। यह बात मेरे दिमाग में घूमती रही। मैं नहीं जानती कि उसने अपना संतुलन खोया या वह जानबूझकर मेरे आगे गिरी।

Share This Article On :
loading...

BIG NEWS IN BRIEF