खून ,चीख,आंसू और दर्द झेलने के बाद मिली है ये कामयाबी…कहानी राशिद खान की

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 27-04-2018 / 9:24 PM
  • Update Date: 27-04-2018 / 9:24 PM
नई दिल्ली। आतंक और बंदूकों के साय में पला बढा 20 साल का एक लड़का आज दुनिया को अपनी ऊंगली पर नचा रहा है। खून,चीख और दर्द की काली रातों के बाद आज उस लड़के को क्रिकेट की दुनिया में कामयाबी के सवेरे नसीब हो रहे हैं तो इसके पीछे उसकी कड़ी तपस्या है। हम बात कर रहे हैं अफगानिस्तान में जन्मे राशिद खान की जिसने आईपीएल मे धूम मचा रखी है। इस सीजन की दो कामयाब टीमों को अगर हैदराबाद की टीम ने एक-एक रन के लिए तरसा दिया तो इसकी वजह राशिद ही हैं। हैदराबाद सनराइर्जस की गेंदबाजी की कमान संभालने वाले रशीद की बदौलत ही उनकी टीम को मुंंबई और पंजाब के खिलाफ छोटे स्कोर के बावजूद जीत मिली। मैचों की कहानी तो आप जानते हैं लेकिन जो नही जानते हैं वो है रशीद की संघर्ष की कहानी।

आतंकि हमले के बाद छूट गया घर…

बात राशिद के बचपन की है। अफानिस्तान के शहर नंगारहर में आतंकि हमला हुआ। कई लोग मारे गए और ये हमला कई दिनों तक जारी रहा। राशिद के परिवार को सबकुछ छोड़कर भागना पड़ा। वो लोग पाकिस्तान चले गए। वंहा भी कई तरह की परेशानियों का सामना खान परिवार को करना पड़ा।कुछ सालों के बाद पूरा परिवार फिर अफगानिस्तान लौट आया।  इन आंसूओ के बावजूद रशीद की मासूम आंखो ने क्रिकेट का ख्वाब पाल लिया था। पाकिस्ताानी आलराउंडर शाहिद आफरीदी को देख कर राशिद को क्रिकेट का खुमार चढा। वंही से जीतोड़ मेहनत शुरु कर दी और आज दुनिया के सबसे कामयाब स्पिनर बन गए हैं ।

10 भाई-बहन है रशीद के..

राशिद के 10 भाई बहन हैं वो इनमें सातवे नंबर पर हैं। उनके तीन भाई भी क्रिकेट खेलते हैं। वो सभी बल्लेबाज हैं लेकिन कभी प्रकिटस में भी राशिद की गेंदो को समझ नही पाते हैं। गरीबी के दिनों को राशिद ने खत्म कर दिया है। राशिद दुनिया भर में टी-20 क्रिकेट खेलते हैं और खूब पैसा कमाते हैं।
Share This Article On :
loading...

BIG NEWS IN BRIEF