समाज में किसी को भी ऊंचा या नीचा न समझें : मोहन भागवत

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 11-01-2018 / 7:44 PM
  • Update Date: 11-01-2018 / 7:44 PM

विदिशा। आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने जात-पात और ऊंच-नीच के भाव को त्यागकर सभी को अपने से जोड़ने का आह्वान किया है। उन्होंने कपड़े धोने से लेकर मोची का काम करने वाले तक को गले लगाने की बात कही।

मध्य प्रदेश के विदिशा में गुरुवार से शुरू हुए तीन दिवसीय समन्वय शिविर में हिस्सा लेने आए भागवत ने एकात्म यात्रा में हिस्सा लेते हुए कहा, समाज में सब समान हैं, किसी को भी ऊंचा या नीचा न समझें, जात-पात को लेकर भेदभाव न करें, सभी भारत माता के पुत्र हैं, उन्हें अपना सहोदर समझें।

भागवत ने मौजूद लोगों से कहा, “इस मकर संक्रांति से आप संकल्प लें कि उन सभी लोगों के साथ जुड़ेंगे, जो आपके संपर्क में हैं। चाहे घर में आकर काम करने वाली बाई हो, कपड़ा धोने वाला, कटिंग करने वाला या जूते-चप्पल सुधारने वाला। इन सभी को मकर संक्रांति के मौके पर तिल और गुड़ बांटें।”

Share This Article On :
loading...

BIG NEWS IN BRIEF