जजों की प्रेस कॉन्‍फ्रेंस से मोदी सरकार में हंडकंप – पीएमओ ने रविशंकर को किया, स्वामी बोले- पीएम दें दखल

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 12-01-2018 / 2:54 PM
  • Update Date: 12-01-2018 / 2:56 PM

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट के चार मौजूदा न्यायाधीशों द्वारा शीर्ष अदालत के सिस्टम पर सवाल उठाए जान के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय तुरंत हरकत में आ गया। न्यायाधीशों द्वारा सुप्रीम कोर्ट के कामकाज पर नाखुशी जाहिर करने को संज्ञान में लेते हुए पीएमओ ने शुक्रवार को कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद को तलब किया।

इस बीच भाजपा नेता एवं राज्यसभा सदस्य सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि जजों द्वारा सुप्रीम कोर्ट के सिस्टम पर सवाल उठाना गंभीर बात है और प्रधानमंत्री मोदी को इस मामले में दखल देना चाहिए। समझा जाता है कि पीएमओ कानून मंत्री से इस पूरे हालात की जानकारी मांगेगा।

सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा, हम लोकतांत्रिक देश में रहते हैं। लोकतंत्र में कई सारी चीजें होती हैं। ऐसे प्रतिष्ठित न्यायाधीश जिनके सामने मैं पेश हुआ हूं और जिरह की है। इन जजों ने अपने ज्ञान की गहराई, क्षमता और बुद्धिमत्ता से मुझे प्रभावित किया है। इन जजों ने पिछले 30-40 साल में शानदार निर्णय दिए हैं ऐसे में यदि ये जज सामने आकर प्रेस कांफ्रेंस करते हैं तो जरूर कोई बात होगी।

स्वामी ने कहा, जजों ने जो सवाल उठाए हैं उन पर हमें गंभीरता से सोचना चाहिए। हमें उनके बयानों में दोष नहीं निकालना चाहिए। चूंकि, जजों का कहना है कि वे प्रधान न्यायाधीश को अपने विश्वास में लेने में असफल हुए हैं तो ऐसे में प्रधानमंत्री की तरह से पहल होनी चाहिए।

Share This Article On :
loading...

BIG NEWS IN BRIEF