स्कूलों में जैमर लगवाएं ताकि बच्चे नहीं देख पाएं पोर्न

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 15-07-2017 / 5:15 PM
  • Update Date: 15-07-2017 / 5:15 PM

नई दिल्ली। केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि बाल पोर्नोग्राफी के मुद्दे से निपटने के लिए इससे संबद्ध करीब 3500 वेबसाइटों को पिछले महीने ब्लॉक कर दिया गया है। सरकार ने न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली तीन न्यायाधीशों की पीठ को बताया कि उसने केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) को बाल पोर्नोग्राफी सामग्री तक पहुंच रोकने के लिए स्कूलों में जैमर लगाने पर विचार करने के लिए कहा है।

अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल पिंकी आनंद ने पीठ को बताया कि स्कूल बसों में जैमर लगाना संभव नहीं है। सरकार ने अदालत को बताया कि वह बाल पोर्नोग्राफी रोकने के लिए उठाए गए कदमों पर स्थिति रिपोर्ट दाखिल करेगी। अदालत ने केंद्र को दो दिनों के अंदर स्थिति रिपोर्ट दाखिल करने के लिए कहा है। शीर्ष अदालत देशभर में बाल पोर्नोग्राफी के खतरे को रोकने के लिए समुचित कदम उठाने के संबंध में केंद्र को निर्देश देने की मांग वाली एक याचिका पर सुनवाई कर रही थी।

Share This Article On :
loading...

BIG NEWS IN BRIEF