मैं रेस के घोड़े की तरह बस फिनिश लाइन देखता हूं : टाइगर श्रॉफ

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 13-07-2017 / 2:24 PM
  • Update Date: 13-07-2017 / 2:24 PM

ऐक्टर टाइगर श्रॉफ ने महज तीन फिल्मों से बॉलिवुड में अपनी एक अलग जगह बना ली है। डांसिंग-ऐक्शन हीरो की अपनी इसी इमेज को वह अगली फिल्म मुन्ना माइकल में और भी आगे लेकर जा रहे हैं। पेश है उनसे हुई ये खास बातचीत…

आप अपनी हर फिल्म के साथ डांस और ऐक्शन का लेवल बढ़ाते जा रहे हैं। ऐसे मे यह सफर कहां तक जा पाएगा?

पता नहीं। जब तक बॉडी में जान है, तब तक करते जाऊंगा। अभी जवान हूं, तो उसका फायदा उठाऊंगा। तीस या चालीस के बाद क्या पता, बॉडी साथ देगी या नहीं! तब शायद ज्यादा स्टोरीज या कॉन्टेंट वाली फिल्में करूंगा, अलग किरदार निभाऊंगा, लेकिन अभी जो मेरी पहचान है डांस और ऐक्शन हीरो की, उसमें मुझे मजा आ रहा है। इसलिए उसके साथ मैं और खेलना चाहता हूं। उसको और स्थापित करना चाहता हूं। वैसे भी इंडस्ट्री में कॉम्पिटीशन इतना ज्यादा है कि आप अलग कैसे दिखोगे? भीड़ में अपनी अलग पहचान कैसे बनाओगे? वरुण धवन, सिद्धार्थ मल्होत्रा, कितने ही ऐक्टर्स हैं, तो मैं उनसे अलग कैसे दिखूं? इसीलिए मैं अपनी इस इमेज को फिलहाल बनाए रखना चाहता हूं।

हाल ही में आपका हाफ-ड्रीम पूरा हुआ है। आपने स्पाइडर मैन: होम कमिंग के हिंदी वर्जन के लिए डबिंग की। सुना है आप स्पाइडर मैन का रोल भी करना चाहते हैं?

जी, मैं बहुत खुश हूं। मेरी किस्मत अच्छी है कि मुझे इसके लिए चुना गया, लेकिन बहुत मेहनत लगी क्योंकि वो किरदार बहुत तेजी से बात करता है। बहुत हाई पिच पर बात करता है, जो मेरी नॉर्मल आवाज से बहुत अलग है। मेरा इतना एक्स्पीरियंस भी नहीं है, लेकिन जितना पॉसिबल हो पाया, मैंने किया। वैसे मैं स्पाइडर मैन का बहुत बड़ा फैन हूं। स्पाइडर मैन की सारी मूवीज मैं देख चुका हूं, तो उस किरदार की एक समझ थी मुझमें। स्पाइडर मैन का रोल करना तो मेरा अल्टीमेट ड्रीम है।

आपको लगता है कि बॉलिवुड वाले स्पाइडर मैन जैसी फिल्म बनाने के लिए तैयार हैं?

जी नहीं। अभी तो नहीं। हालांकि बाहुबली के साथ एक चेंज जरूर आ रहा है, लेकिन मैं बोल सकता हूं कि अभी भी उस लेवल तक पहुंच पाने में हमें टाइम लगेगा। वैसा बजट फिलहाल तो नामुमकिन है, लेकिन कॉन्टेंट की बात करें, तो हम उनकी टक्कर में है। बस, बजट के मामले में हम पीछे रह जाते हैं।

अच्छी फिल्म के लिए बड़ा बजट कितना जरूरी है। बहुत से मेकर्स का मानना है कि बाहुबली बजट नहीं, विजन से बड़ी बनी?

वो इस पर डिपेंड करता है कि आप कैसी फिल्म बना रहे हैं? अगर आप बाहुबली जैसी लार्ज स्केल की फिल्म बना रहे हो, तो बजट की जरूरत बिल्कुल होती है, लेकिन अगर आपके पास एक बढिय़ा स्टोरी है और आप स्केल से ज्यादा कहानी और उसके किरदारों पर ध्यान दे रहे हो, तो कम बजट में भी काम हो सकता है। विजन बिल्कुल जरूरी है किसी भी फिल्म के लिए। अगर विजन और बजट की ढंग की शादी हो जाए, तो फिर कमाल का प्रॉडक्ट मिलता है।

आप रैंबो का रीमेक भी कर रहे हैं। इसे लेकर सिलवेस्टर स्टेलॉन ने डर भी जताया था कि कहीं बॉलिवुड वाले उनके किरदार को खराब न कर दें। आपके हिसाब से ऐसा उन्हें क्यों लगा होगा?

मैं उनका डर समझ सकता हूं, क्योंकि अगर मैं आंख बंद करके भी रैंबो के बारे में सोचूं, तो सिलवेस्टर स्टेलॉन का चेहरा और नाम आंखों के सामने आता है। जिस तरह से उन्होंने वो करैक्टर निभाया है, वह एक फ्रेंचाइजी बन गया है। अगर मैं ओरिजिनल रैंबो होता, तो शायद मैं भी थोड़ा डर जाता कि कोई और उसे रीमेक कर रहा है, तो पता नहीं कैसा बनाएगा, लेकिन बाद में तो उन्होंने बहुत प्यार दिखाया। जब उन्होंने गुड लक बोला, तब मुझे बहुत अच्छा लगा।

स्पाइडर मैन और रैंबो जैसी हॉलिवुड की फिल्मों से जुडऩे के बाद क्या आप हॉलिवुड में भी हाथ आजमाना चाहते हैं?

जी, बिल्कुल चाहता हूं। मैं स्पाइडर मैन बनना चाहता हूं, जैसा कि मैंने हमेशा से कहा है। अभी मेरा सपना हाफ पूरा हुआ है। उम्मीद है आगे चलकर ये सपना पूरा भी हो जाएगा।
आप दो फिल्मों स्टूडेंट ऑफ द इयर और बागी की सीच्ल कर रहे हैं। बागी आपकी अपनी फिल्म थी, जबकि स्टूडेंट ऑफ द इयर किसी और की फिल्म थी। ऐसे में दोनों के सीच्ल आपके लिए

किन मायनों में अलग हैं?

स्टूडेंट ऑफ द इयर 2 को लेकर काफी प्रेशर है, क्योंकि वो मेरी प्रॉपर्टी नहीं है। तीन बहुत बढिय़ा स्टार्स थे उसमें। एक बड़ी हिट फिल्म थी वह, इसलिए उस उम्मीद पर खरा उतरना मेरे लिए बहुत बड़ा चैलेंज है। बागी में भी पहले जो दिखाया था, अब उसका डबल दिखाना है। यह साबित करना है कि यह फ्रेंचाइजी आगे तक जा सकती है। पहले पार्ट में श्रद्धा के साथ, साबिर सर के साथ एक बहुत अच्छी फिल्म बनाई थी। उम्मीद है कि पार्ट 2 में अहमद सर के साथ, दिशा (दिशा पटानी) के साथ और भी अच्छी बनाएंगे, उसे नेक्स्ट लेवल पर ले जाएंगे।

दिशा को आपकी हर फिल्म में कास्ट करने की खबरें आती हैं। क्या इसकी वजह आप लोगों की रियल लाइफ दोस्ती है?

शायद, हमारी केमिस्ट्री देखकर ज्यादातर मेकर्स हम दोनों को साथ में कास्ट करना चाहते हैं। यह अच्छी बात है, क्योंकि हम दोनों एक-दूसरे के साथ काफी कंफर्टेबल हैं। फिर न्यूकमर्स भी उतने सारे हैं नहीं। आलिया, श्रद्धा इतनी बिजी हैं।

आपके और दिशा के लिंकअप्स की जो खबरें आती रहती हैं, उसमें कितनी सच्चाई है? और क्या ये खबरें आपको परेशान करती हैं?

लिंकअप्स तो होते रहते हैं दिशा के साथ। हम कॉफी के लिए जाते हैं, इधर जाते हैं-उधर जाते हैं, घूमते रहते हैं, तो ऐसी खबरें बन जाती हैं। वो मेरी बहुत अच्छी दोस्त हैं, मेरी खास दोस्त हैं, तो अच्छा लिंकअप है। बहुत लोगों से मेरा लिंकअप है। मेरी मम्मी के साथ मेरा लिंकअप है, पापा के साथ लिंकअप है, बहन के साथ लिंकअप है। इसलिए ये खबरें मुझे परेशान नहीं करतीं, क्योंकि मैं पेपर उतना पढ़ता नहीं हूं। मैं एक रेस के घोड़े की तरह हूं। मैं सिर्फ फिनिश लाइन ही देखता हूं।

आपको कई फिल्ममेकर्स लॉन्च करना चाहते थे। आपको लगता है कि अगर आप जैकी श्रॉफ के बेटे न होते, तो भी ऐसा होता?

नहीं, क्योंकि मैं जैकी श्रॉफ का बेटा हूं, इसलिए मेरे लिए शुरुआत में पहचान मिलना थोड़ा आसान था, लेकिन साथ ही मुझसे उम्मीदें भी दोगुनी थीं। प्रेशर डबल था। फिर फर्स्ट डे फर्स्ट शो में जब सिनेमा की लाइट बंद हो जाती है, तब मेरे पापा मेरा हाथ पकडक़र नहीं खड़े होते हैं। वहां मैं अकेला होता हूं। उस शो से निकलने के बाद जो रिस्पॉन्स आता है, वो मेरे दम पर आता है। मेरे काम की वजह से आता है।

आप खुद एक बेहतरीन डांसर हैं। फिल्म मुन्ना माइकल में आप नवाजुद्दीन सिद्दीकी को डांस सिखा रहे हैं। डांस सीखने और सिखाने में ज्यादा आसान क्या है? और नवाज को डांस के लिए आप कितने मार्क्स देंगे?

ये फिल्म एक तरह से ट्राएंगल लव स्टोरी है। नवाज सर नॉन डांसर हैं, लेकिन डांस सीखना चाहते हैं। मेरे हिसाब से डांस सीखना ज्यादा मुश्किल है। सिखाना ज्यादा आसान है, क्योंकि सिखाने के वक्त टेक्नीक पता होती है कि ऐसे करना है। नवाज सर को मैं 10 में से 6 मार्क्स दूंगा, जो बहुत ज्यादा हैं ऐसे इंसान के लिए, जो पहली बार डांस कर रहा है। चालीस साल की उम्र में डांस सीखना वाकई बहुत बड़ी बात है।

Share This Article On :

BIG NEWS IN BRIEF