भारत-अमेरिका मालाबार युद्धाभ्यास में जापान के शामिल होने पर भड़का चीन

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 14-12-2015 / 11:55 PM
  • Update Date: 14-12-2015 / 11:55 PM

बीजिंग। भारत-अमेरिका मालाबार नौसेना अभ्यास में जापान को शामिल करने पर तीखी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए चीन ने सोमवार को कहा कि उसे आशा है कि टोक्यो मुठभेड़ के लिए नहीं उकसाएगा और क्षेत्र में तनाव को नहीं बढ़ाएगा।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता होंग लेई ने मालाबार अभ्यास में जापान को शामिल किए जाने पर एक मीडिया ब्रीफिंग में पूछे गए एक सवाल का जवाब देते हुए कहा, ‘हमारा रुख बिल्कुल साफ है। आशा है कि संबद्ध देश मुठभेड़ के लिए नहीं उकसाएगा और क्षेत्र में तनाव नहीं बढ़ाएगा।’

जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे की पिछले हफ्ते भारत यात्रा के दौरान यह घोषणा की गई थी कि जापान मालाबार नौसेना अभ्यास में साझेदार बनेगा, जिससे कि भारत और अमेरिका के बीच होने वाला यह द्विपक्षीय नौसेना अभ्यास स्थायी आधार पर त्रिपक्षीय हो जाएगा।

अपनी ब्रीफिंग में होंग ने आबे और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बीच दक्षिण चीन सागर विवाद और दोनों देशों के बीच असैन्य परमाणु सहयोग को लेकर हुई वार्ता का धीमे स्वर में जिक्र किया। उन्होंने बताया, ‘चीन दक्षिण चीन सागर में अंतरराष्ट्रीय कानून के मुताबिक सभी देशों द्वारा नौवहन की स्वतंत्रता का इस्तेमाल किए जाने का सम्मान करता है।’

हालांकि, उन्होंने सैन्य प्रतिष्ठानों के साथ कृत्रिम द्वीपों के निर्माण का बचाव किया। उन्होंने मोदी-आबे वार्ता के बाद जारी किये गए एक संयुक्त बयान में जिक्र किया की एससीएस पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए कहा, ‘प्रवालों में चीन द्वारा निर्माण कार्य और एससीएस के द्वीप चीन की संप्रभुता के तहत हैं। इसका नौवहन की स्वतंत्रता और उपर से गुजरने वाले विमानों पर कोई प्रभाव नहीं है।’

Share This Article On :
loading...

BIG NEWS IN BRIEF