बाढ़: चेन्‍नई पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, किया एक हजार करोड़ का एलान

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 03-12-2015 / 5:25 PM
  • Update Date: 03-12-2015 / 5:36 PM

चेन्नई। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तमिलनाडु में बाढ़ से उत्पन्न स्थिति का जायजा लेने के लिए आज तमिलनाडु पहुंचे। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि वह अर्राकोनाम नौसेना एयर स्टेशन पर पहुंचे और फिर वह बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे। प्रधानमंत्री ने इस दौरान मुख्‍यमंत्री जयललिता से मुलाकात की।

रवाना होने से पहले बोले मोदी
मोदी ने तमिलनाडु के लिए उड़ान भरने से पहले ट्विटर पर लिखा था, विनाशकारी बाढ़ के कारण पैदा हुई स्थिति का जायजा लेने के लिए चेन्नई जा रहा हूं। केंद्र ने चेन्नई के हालात को ‘चिंताजनक’ बताया और संकट की इस घड़ी में सभी संभव सहायता का वादा किया है।

बचाव कार्य जारी
मौसम विभाग की मानें तो अगले कुछ दिन और इस शहर पर भारी पड़ने वाले हैं। तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई तथा पुड्डुचेरी और इसके आस-पास के बारिश प्रभावित इलाकों में सेना, नौसेना, तटरक्षक बल और आपदा राहत बल के जवान राहत एवं बचाव कार्य में जुटे हैं जबकि पड़ोसी राज्य आंध्रप्रदेश में भी बारिश के कारण जनजीवन पूरी तरह अस्त-व्यस्त हो गया है। तमिलनाडु में बारिश के कारण अब तक 200 लोगों की जान जा चुकी है।

स्कूल -काॅलेज बंद, कई ट्रेने रद्द
बारिश के कारण स्कूल -काॅलेज 15 दिनों के लिए बंद कर दिए गए हैं तथा कई ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है। निचले इलाकों में रह रहे हजारों लोगों के लिए परेशानी बढ़ गई है।

पीएम मोदी रख रहे हैं नजर2015_12$largeimg03_Dec_2015_164519977
एसोचैम ने तमिलनाडु में बारिश के कारण 15 हजार करोड़ रूपए के आर्थिक नुकसान की आशंका व्यक्त की है। केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने तमिलनाडु सरकार को भरोसा दिया है कि इस मुश्किल समय में राज्य की हरसंभव मदद की जाएगी। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी स्थिति पर लगातार नजर रख रहे हैं।

राजनाथ ने दिया हरसंभव मदद का भरोसा
राजनाथ सिंह ने नई दिल्ली में एक टीवी चैनलों से कहा, तमिलनाडु और प्रभावित इलाकों में रह रहे लोगों को हरसंभव मदद उपलब्ध कराई जाएगी। मोदी लगातार निजी तौर पर स्थिति पर नजर रख रहे हैं और उन्होंने चेन्नई के लिए एक केन्द्रीय टीम रवाना करने के निर्देश दिए हैं जो अपनी रिपोर्ट सौंपेगी ताकि राहत कार्य सही ढंग से किए जा सकें।

पीएम ने की जयललिता से बात
इससे पहले मंगलवार शाम मोदी ने तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे. जयललिता से फोन पर बातचीत कर राज्य को हरसंभव मदद और सहयोग उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया। तमिलनाडु सरकार ने बचाव एवं राहत कार्य के लिए सेना की मदद मांगी थी जिसके बाद सेना की दो टुकडियां तंबाराम और ऊरापक्कम में काम पर लग गई हैं। नौसेना भी बचाव कार्य में जुटी है।

चेन्नई जैसे हालात न पहले कभी देखे, न कभी सुने
सूत्रों के अनुसार बेंगलुरू से सेना के जवान चेन्नई आ रहे हैं। नौसेना के जवान चेन्नई के सादियापेट इलाके में तैनात है और वह निचले इलाकों में फंसे लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने में मदद कर रही है। आपदा राहत बल अन्य 15 दलों को लेकर तमिलनाडु पहुंच रहा है।

बल के महानिदेशक ओ पी सिंह ने बताया कि दस टीमें तिरूपति, भुवेनश्वर से जबकि पांच टीमें दिल्ली से पहुंची हैं। केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री एम वेंकैया नायडू ने नयी दिल्ली में कहा कि चेन्नई जैसे हालात न पहले कभी देखे गए, न कभी सुने गए। उन्होंने प्रभावित इलाकों और आसपास के शहरों में हरसंभव मदद का आश्वासन दिया।

भारी बारिश की आशंका
भारतीय मौसम विभाग के निदेशक जनरल एलएस राठौर ने बताया कि तमिलनाडु के तटीय इलाकों, दक्षिणी आंध्र प्रदेश के नेल्लोर और चित्तूर जिलों, रायलसीमा और तमिलनाडु के आंतरिक जिलों में मध्यम से तेज बारिश होने की आशंका है। राठौर ने बताया कि चेन्नई में 89 प्रतिशत सामान्य से अधिक वर्षा दर्ज की गई है जबकि वेल्लोर में सामान्य से 139 प्रतिशत अधिक वर्षा दर्ज की गई। स्कूलों और कॉलेजों को अगले 15 दिनों के लिये बंद करने के आदेश दिये गये हैं. चेन्नई में गत सप्ताह दो ही दिन स्कूल खुले थे।

सभी उड़ानें रद्द
चेन्नई हवाई अड्डे पर हवाईपट्टी के पानी में डूबने के कारण बुधवार सुबह छह बजे से गुरूवार सुबह छह बजे तक के लिए यहां से सभी उड़ानें रद्द कर दी गई हैं। इसके कारण प्रभावित इलाकों में विमानों से खाने के पैकेट नहीं गिराए जा रहे हैं। जैसे ही हवाईअड्डा खुलेगा, राहत कार्य दोबारा शुरू कर दिया जाएगा।

बारिश ने तोड़ दिया 100 साल की रिकॉर्ड
तमिलनाडु में लगातार हो रही इस बारिश ने पिछले 100 साल का रिॅकार्ड तोड़ दिया है। लगातार बारिश के कारण चेन्नई शहर की आस-पास की झीलों का पानी निकलकर शहर के वडापलानी, वलासरवकम और नंदमवाकम इलाकों में घुस गया है।

Share This Article On :
loading...

BIG NEWS IN BRIEF