कोलकाता में भारी बारिश – बाढ़ जैसे हालात, मणिपुर में टूटे कई पुल

  • ByJaianndata.com
  • Publish Date: 11-07-2017 / 2:21 PM
  • Update Date: 11-07-2017 / 2:21 PM
कोलकाता। पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता और उसके बाहरी इलाकों में मूसलाधार बारिश  होने से महत्वपूर्ण स्थलों पर जाम की स्थिति बन गई है। जलभराव के कारण कोलकाता के पुराने इलाकों में यातायात जाम हो गया है। एक घंटे की अवधि में शहर में औसतन 50 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई है।
एक घंटे की मूसलाधार बारिश होने से मुक्ताराम बाबू स्ट्रीट, सेंट्रल एवेन्यू, एम जी रोड, एम्हर्स्ट स्ट्रीट, कामेक स्ट्रीट, भवानीपोर,रासबेहारी एवेन्यू, चेतला और बेहारा सहित कई हिस्सों में जलभराव हो गया है। इन स्थानों पर जलस्तर अधिक होने के कारण वाहन रेंग-रेंग कर चल रहे हैं।
कोलकाता नगर निगम के तुरंत कार्रवाई करते हुए सभी स्थानों से जल निकास के लिए पम्पिंग स्टेशन का परिचालन शुरू कर दिया है।
कोलकाता क्षेत्रीय मौसम केन्द्र के अनुसार बंगाल की खाड़ी में दबाव के कारण मूसलाधार बारिश हो रही है और अगले 24 घंटों में भी भारी बारिश होने का भी अनुमान है। क्षेत्रीय मौसम केन्द्र के अनुसार अगले 24 घंटे के दौरान यहां और निकटवर्ती इलाकों में घने बादल छाए रहने और तेज बारिश एवं गरज के साथ छींटे पड़ने के आसार हैं।
दक्षिण बंगाल के अधिकतर हिस्सों और दक्षिण 24 परगना, नादिया, हावड़ा, हुगली और पूर्वी मिदनापुर में भारी बारिश होने का अनुमान है। कोलकाता में दक्षिण-पश्चिम मानसून  के सक्रिय होने से अच्छी बारिश हो रही है। पिछले 24 घंटों के दौरान शहर के अलग-अलग हिस्सों में भारी बारिश रिकार्ड की गयी है। पश्चिम बंगाल के कुछ दक्षिणी जिलों में इसी अवधि में मध्यम बारिश रिकाॅर्ड की गई।
असम के लखीमपुर जिले में आज बाढ़ की चपेट में आने से एक दम्पति की मौत हो गई और पूर्वोत्तर राज्यों में भी लगातर बाढ़ की स्थिति बनी हुई है तथा इस दौरान भारी भूस्खलन होने से कई घर मलबे में दब गए हैं। लखीमपुर, ईटानगर और सोनितपुर को जोड़ने वाले बंडेरदेवा में राष्ट्रीय राजमार्ग 15 के पास आदर्श गांव में घर टूटने से यह घटना हुई।
मृतकों की पहचान कृष्ण बहादुर दोरजी और उसकी पत्नी चालिमोई दोरजी के रूप में हुयी है। इनके घर के टूटने  से इस दम्पति की मौत हो गई। जिलाधिकारियों ने कहा कि आज सुबह भूस्खलन होने और दम्पति के गहरी नींद में सोये होने के कारण वे घर से बाहर नहीं निकल पाये। इसी वजह से यह घटना घटी।
बाढ़ के कारण लखीमपुर का सड़क मार्ग से पूर्ण रूप से संपर्क टूट गया है और सोनितपुर से लखीमपुर जाने वाले वाहनों की आवाजाही रद्द कर दिया है। रविवार को अरुणाचल प्रदेश में ईटानगर के सिनकी नदी में तीन साल की लड़की बमांग निजार बह गई। आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अनुसार असम के 20 जिलों के 67 राजस्व क्षेत्रों में बाढ़ से 2053 गांवों के 12 लाख 55 हजार 692 लोग प्रभावित हुए है। जिला प्रशासन ने 71 राहत शिविर खोले हैं।
मणिपुर में चांडेल ओर थोउबाल के कई गांवों में बाढ़ के कारण कई पुल टूट गए और कई बह गए हैं। पूर्वी इम्फाल, पश्चिमी इम्फाल, थोउबल, बिशनुपुर और उखरुल जिलों में बाढ़ के कारण 40 हजार हेक्टअर कृषि भूमि जलमग्न हो गयी है और लगभग 5000 हजार लोग विभिन्न राहत शिविरों में शरण लिए हुए हैं।
Share This Article On :

BIG NEWS IN BRIEF